सोमवार, 18 अप्रैल 2011

भारतीय यातायात


                       एक बार सोचिये कि कहीं आप भी तो नियम तोड़ने वालों में से तो नहीं हैं |

3 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

एक बार सोचिये कि कहीं आप भी तो नियम तोड़ने वालों में से तो नहीं हैं |अजी यहां सही कोन चलता हे? जो तोडे?

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

दूसरों को देख कर तोड़ देते हैं क्‍योंकि न तोड़ें तो सबसे बड़े बेवकूफ कहलाते हैं, वैसे सबसे बड़े हम हैं यह मानकर चलते हैं।

संजय भास्कर ने कहा…

ला-जवाब" जबर्दस्त!!