शनिवार, 6 मई 2017

नीरवता के सेतु

सोचता हूँ नीरवता के साम्राज्य में 
अंदर भेजूँ गुप्तचर कुछ शब्दों के 

तेरी शान्त जिह्वा में कराऊँ कुछ कम्पन
हो उदगार जो अभी अर्द्ध उच्चारित हैं

पर हमारे बीच की ये नीरवता ही शायद नियति है
समानान्तर रेखाओं जैसे हमारे शब्द भी कभी नहीं मिलने

हमें चाहिए एक सेतु जो जोड़ दे
आपस मे समानान्तर रेखाओं के सिरे

कोई टिप्पणी नहीं: